सांस्कृतिक मामलों का विभाग, केरल सरकार


इडियोफोनिक वाद्ययंत्र

ये ऐसे संगीत वाद्ययंत्र हैं, जो धातुओं से बने होते हैं। उन्हें लोहा वाद्यंगल (लोहम का अर्थ धातु है) के नाम से भी जाना जाता है। इन वाद्ययंत्रों का प्रयोग मुख्यतः सिम्फनी को लय देने में किया जाता है। इन वाद्ययंत्रों का मुख्य उद्देश्य वाद्ययंत्र संगीत में लय प्रदान करना है। इलत्तालम, कुषित्तालम, चेंगिला, चप्लाकट्टा और हरिबोल कुछ प्रमुख इडियोफोनिक वाद्ययंत्र हैं, जो केरल में बजाए जाते हैं। ये वाद्ययंत्र मुख्यतः तायम्बका, पंचवाद्यम और कथकली संगीतम (कथकली संगीत) में चंडमेलम जैसे पारंपरिक ऑर्केस्ट्रा में लयबद्ध प्रभाव बनाए रखने के लिए बजाए जाते हैं।