सांस्कृतिक मामलों का विभाग, केरल सरकार

सांस्कृतिक संस्थान


मार्गी

उत्कृष्टता के स्थल के रूप में मार्गी वर्षों से शास्त्रीय (क्लासिकल) कला रूपों का उत्कृष्टता केंद्र बन गया है। मार्गी नाम संस्कृत से लिया गया है जिसका अर्थ होता है सार्वभौमिक और चिरस्थायी सौंदर्यशास्त्रीय मूल्यों का अनुसरण। जानेमाने नाट्यकर्मी स्व. डी. अप्पुक्कुट्टम नायर द्वारा 1970 में स्थापित मार्गी आरंभ से ही केरल में शास्त्रीय (क्लासिकल) कलाओं के संरक्षण और प्रसार की दिशा में अग्रणी रही है। मार्गी खास तौर पर कूटियाट्टम, नंगियारकूत्तु और कथकली जैसे प्रमुख प्रदर्शन कला रूपों (परफॉर्मिंग आर्ट फॉर्म्स) के प्रशिक्षण के लिए जानी जाती है।

मार्गी की गतिविधियां केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम में दो स्थानों से संचालित होती हैं। पहले स्थान वलियशाला में है जहां कूटियाट्टम और नंगियारकूत्तु का निष्पादन होता है। दूसरा ईस्ट फोर्ट के पास है जो पूरी तरह कथकली को समर्पित है। दोनों केद्रों पर छात्र प्रदर्शन कला के अपने चुने हुए क्षेत्रों में प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं। मार्गी में चेंडा, मद्दलम, इडक्का और तिमिला जैसे संगीत वाद्ययंत्रों का प्रशिक्षण भी दिया जाता है। नियमित पाठ्यक्रमों के अलावा मार्गी अल्पकालिक पाठ्यक्रमों का संचालन करता है, खासकर विदेशियों के लिए।

मार्गी से जुड़े अभिनय क्षेत्र के कुछ प्रख्यात कलाकार हैं इंचक्काट्टू रामचंद्रन पिल्लई, कलामंडलम रतीशन, मार्गी विजयकुमार, मार्गी मुरली, और कलामंडलम बालसुब्रमण्यम। प्रसिद्ध संगीतकारों में हैं- कलामंडलम कृष्णनकुट्टी और कलानिलयम राजीवन (वोकल या स्वर); कलामंडलम कृष्ण दास (चेंडा); मार्गी रत्नाकरन (मद्दलम), मार्गी सोमदास (मेक-अप और स्टेज) भी इस संस्था से जुड़े रहे हैं।

मार्गी एक ऐसी व्यवस्था बनाकर रखता है जिसे कलियोगम या प्रदर्शन समूह (पर्फॉर्मिंग ग्रुप) कहते हैं जो हमेशा एक साथ रहते हैं। प्रधान गुरु हमेशा एक सीनियर और बहु-स्वीकृत कला मर्मज्ञ होते हैं। कलियोगम का मुख्य कार्य है अपने रंगपटल में विविधता रखना ताकि कला में लोगों रुचि बनी रहे।

शिक्षण के लिए सुविधाएं और नियमित प्रदर्शन के लिए एक मिनी थियेटर की सुविधा के साथ, तिरुवनंतपुरम स्थित मार्गी के दोनों केंद्र केरल और बाहर के छात्रों और अध्येताओं को आकर्षित करते हैं।

संपर्क करें:
फोन: + 91 471 2478806

मार्गी कथकली - कूटियाट्टम केंद्र के बारे में अधिक जानकारी पाने के लिए यहां क्लिक करें